img

कंपनी प्रोफ़ाइल

पृष्ठभूमि

इंडियन रेलवे फाइनेंस कॉर्पोरेशन (आईआरएफसी) की स्थापना 12 दिसंबर, 1986 को घरेलू और साथ ही विदेशी पूंजी बाजारों से धन जुटाने के लिए भारतीय रेलवे की समर्पित वित्तपोषण शाखा के रूप में की गई थी।

आईआरएफसी, रेल मंत्रालय, भारत सरकार के प्रशासनिक नियंत्रण के तहत एक अनुसूची '' सार्वजनिक क्षेत्र का उद्यम है। यह भारतीय रिज़र्व बैंक (आरबीआई) के साथ व्यवस्थित रूप से महत्वपूर्ण गैर-जमा स्वीकार करने वाली गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी (एनबीएफसी-एनडी-एसआई) और इंफ्रास्ट्रक्चर फाइनेंस कंपनी (एनबीएफसी-आईएफसी) के रूप में भी पंजीकृत है।

आईआरएफसी, रेल मंत्रालय, भारत सरकार के प्रशासनिक नियंत्रण के तहत एक अनुसूची '' सार्वजनिक क्षेत्र का उद्यम है। यह भारतीय रिज़र्व बैंक (आरबीआई) के साथ व्यवस्थित रूप से महत्वपूर्ण गैर-जमा स्वीकार करने वाली गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी (एनबीएफसी-एनडी-एसआई) और इंफ्रास्ट्रक्चर फाइनेंस कंपनी (एनबीएफसी-आईएफसी) के रूप में भी पंजीकृत है।

प्रोफ़ाइल

आईआरएफसी का प्राथमिक उद्देश्य सबसे अधिक प्रतिस्पर्धी दरों और शर्तों पर बाजार उधार के माध्यम से भारतीय रेलवे की 'अतिरिक्त बजटीय संसाधनों' (ईबीआर) की आवश्यकता के प्रमुख हिस्से को पूरा करना है।

इसलिए कंपनी का मुख्य व्यवसाय परिसंपत्तियों के अधिग्रहण/सृजन के वित्तपोषण के लिए वित्तीय बाजारों से धन उधार लेना है जिन्हें बाद में भारतीय रेलवे को पट्टे पर दिया जा सके।

31 मार्च, 2022 तक रेल क्षेत्र के लिए आईआरएफसी की संचयी फंडिंग 5.04 लाख करोड़ रुपये को पार कर गई है। इस फंड का उपयोग रोलिंग स्टॉक परिसंपत्तियां प्राप्त करने और बुनियादी ढांचे के निर्माण के लिए किया जाता है, जो भारतीय रेलवे के वार्षिक पूंजीगत व्यय का महत्वपूर्ण हिस्सा है। अब तक, आईआरएफसी ने 13349 लोकोमोटिव, 73979 यात्री कोच, 259661 वैगनों के अधिग्रहण का वित्त पोषण किया है, जो भारतीय रेलवे के कुल रोलिंग स्टॉक बेड़े का लगभग 75% है। 2011-12 के बाद से, आईआरएफसी ने रेलवे परियोजनाओं और क्षमता संवर्धन कार्यों के वित्तपोषण में प्रवेश किया है।

आईआरएफसी रेल विकास निगम लिमिटेड (आरवीएनएल), रेलटेल, कोंकण रेलवे कॉर्पोरेशन लिमिटेड (केआरसीएल), पिपावाव रेलवे कॉर्पोरेशन लिमिटेड (पीआरसीएल) आदि जैसे रेलवे क्षेत्र की विभिन्न संस्थाओं को भी उधार देता रहा है।

आईआरएफसी का निरंतर प्रयास साधनों, बाजारों और निवेशकों के संदर्भ में अपने उधार पोर्टफोलियो में विविधता लाने का रहा है, जिसके कारण कंपनी को प्रतिस्पर्धी बाजार दर पर अपतटीय उधारी के अलावा कर योग्य और कर-मुक्त बॉन्ड, बैंकों/वित्तीय संस्थानों से सावधि ऋण जारी करने के माध्यम से साल-दर-साल लक्षित उधार लेने में मदद मिली है।